‘बिमारी से दूरी अपनाएं, समाजिक दूरी नहीं’

‘बिमारी से दूरी अपनाएं, समाजिक दूरी नहीं’

जब से प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च, 2020 को कोविद -19 से लड़ने के लिए राष्ट्रीय तालाबंदी की घोषणा की और घोषणा की कि “सोशल डिस्टेंसिंग”

 

भारत को कोरोना महामारी से बचाने के लिए एकमात्र समाधान है, सभी मुख्यमंत्री भी उसी का उपयोग कर रहे हैं भारत में सिक्का। हमें डिजीज डिस्टैंसिंग ’का उपयोग सोशल डिस्टेंसिंग के लिए नहीं करना चाहिए क्योंकि भारत सामाजिक अस्पृश्यता का देश है और सहस्राब्दी के लिए जाति भेद है।

 

अगर यह राष्ट्रीय मानस में चला जाता है तो यह भविष्य में अस्पृश्यता और जातिवाद को बदतर बना देगा। भारत यूरोप, अमेरिका और चीन की तरह नहीं है। यह सदियों से चली आ रही सामाजिक कुप्रथा का देश है।

 

दुर्भाग्य से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी को दुनिया में सबसे बड़ा संगठित नेटवर्क होने का दावा किया जाता है। लेकिन उनके कैडर को देश भर में गरीब, अर्ध-भूखे मजदूरों, भिखारियों के बीच कहीं भी नहीं देखा जाता है जब वे स्वयं शासन कर रहे थे।

 

मोहन भागवत और अमित शाह अपने संगठनों द्वारा गरीबों, बेरोजगारों, भिखारियों, खानाबदोशों और अर्ध-खानाबदोशों को बचाने के लिए राष्ट्र को कॉल करते नहीं दिख रहे हैं। कोई भी हिंदुत्व संगठन शहरी झुग्गियों में भोजन, पानी, भिखारियों, निराश्रितों और पुराने गरीबों को वितरित नहीं करता है। यह कम से कम कहने के लिए एक बुरा राष्ट्रवाद है। राष्ट्रवाद का अर्थ है इस तरह के संकट में गरीबों का जीवन बचाना।

 

मैं सभी संगठनों से अनुरोध करता हूं कि वे “सोशल डिस्टेंसिंग” वाक्यांश का उपयोग न करें, लेकिन रोग निवारण या कोरोना डिस्टेंसिंग का उपयोग करें।

 

सावित्रीबाई फुले और उनके बेटे डॉ यशवंतराव फुले के दिनों के महान संघर्षों के साथ, जिनकी मृत्यु 1897 के बुबोनिक प्लेग में पूना में गरीबों की सेवा में हुई, हमने जातिगत सामाजिक भेदभाव से लड़ने के लिए बहुत संघर्ष किया।

 

हमें इसे फिर से मजबूत करना चाहिए। गरीबों को केवल बीमारी से नहीं बल्कि भूख और पीने के पानी से भी बचाना चाहिए। आइए हम देश के गरीबों की सेवा करें जैसे कि कराल देश को बचाने के लिए कर रहे हैं।

 

(कांचा इलैया शेफर्ड एक सोशल एक्टिविस्ट और लेखक हैं)

Top Stories