Sunday , October 22 2017
Home / Editorial

Editorial

महिला किसान को अगर मिले बराबरी का दर्जा तो बदल सकती खेती बारी की सूरत: अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति

15 अक्टूबर का दिन अंतर्राष्ट्रीय ग्रामीण महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है। अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति भारत के उन तमाम अदृश्य महिला किसानों को सलाम करता है, जो देश की खाद्य सुरक्षा में महत्वपूर्ण योगदान देते आये हैं। एक प्रकार से महिला किसान भारत की कृषि …

Read More »

रवीश कुमार: तो हाज़िर है…Love in the time of 16000 percent turn over and मानहानि सौ करोड़ की!

दोस्तों, लघु प्रेम कथा यानी लप्रेक का यह नया अंक हाज़िर है। थोड़ा लंबा है। तो हाज़िर है…Love in the time of 16000 percent turn over and मानहानि सौ करोड़ की ! राजू और रश्मि दो प्रेमी है जो सैनिक फार्म की छत पर रात के वक्त चांद को देखते …

Read More »

जनता ज़हर पी रही हे – अभिसार शर्मा

ये बेतुका मौसम है। ये वाहियात काल है , देश का। कुछ भी कह दो , कुछ भी कर दो , फिर उसे सही ठहराने के लिए कुछ भी तर्क दे दो। कुछ मिसालें पेश करना चाहूँगा आपके सामने। आग़ाज़, मोदीजी के दर्द- ए -दिल से। उनपर हुए अत्याचार से। …

Read More »

रवीश कुमार: इस ख़बर के बाद CBI या आयकर विभाग के अधिकारी जय अमित शाह के घर क्यों नहीं गए?

आस्ट्रेलिया के जिन शहरों का नाम हम लोग क्रिकेट मैच के कारण जानते थे, वहां पर एक भारतीय कंपनी के ख़िलाफ़ लोग प्रदर्शन कर रहे हैं। शनिवार को एडिलेड, कैनबरा, सिडनी, ब्रिसबेन, मेलबर्न, गोल्ड कोस्ट, पोर्ट डगलस में प्रदर्शन हुए हैं। शनिवार को आस्ट्रेलिया भर में 45 प्रदर्शन हुए हैं। …

Read More »

मल्लिका-ए-गजल के नाम से मशहूर बेगम अख्तर की ज़िन्दगी से जुड़े कुछ पन्ने

बेगम अख्तर दुनिया भर में मल्लिका-ए-गजल के नाम से मशहूर है। आज उनके यौमे पैदाइश पर जहाँ गूगल ने उनके नाम की डूडल से सम्मानित किया वही उनके बारे में शायद ही ज़्यादा लोग जानते हों….तो आयी इस खास हस्ती के बारे में जानते हैं। बेगम अख्तर का जन्म 7 …

Read More »

महज़ 500 रुपए न होने से अनपढ़ रह जाएंगे मुज़फ्फरनगर दंगा पीड़ित के मुस्लिम बच्चे

रुड़कली (मुजफ्फरनगर) मुज़फ्फरनगर दंगे के चार साल बीत गए। कुछ ज़ख्म भर गए लेकिन दर्द अभी भी मौजूद हैं। लोग शरणार्थी बन कर रह गए। दंगे के दौरान यह लोग जान बचाकर भागे थे और दूसरी जगह शरण ली थी। रुड़कली मुजफ्फरनगर जनपद के भोपा थाने के करीब एक गांव …

Read More »

गुजरात: जाति की राजनीति और हिंदुत्व-आकड़े से लड़ने के लिए तय की हिंदू युवा वाहिनी का लक्ष्य

गुजरात में जाति की राजनीति दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। क्योंकि पाटीदार, ओबीसी, आदिवासियों और दलित समुदाय ने पहले ही विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा को पर्याप्त संकेत दे चुके हैं। हालांकि इस चुनौती का मुकाबला करने के लिए भाजपा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर बचाव अभियान …

Read More »

देश के इतिहास में इस वक्त के जैसी बेरोज़गारी कभी नहीं आई, उधर अंबानी की संपत्ति 67 % बढ़ी: रवीश कुमार

नौकरी का डेटा है मंत्री जी ? भारत की अर्थव्यवस्था में भयंकर गिरावट है या मामूली गिरावट है, एक दो तिहाई भर की गिरावट है या एक दो साल के लिए है, इसे लेकर ज़ोरदार बहस चल रही है। दावे प्रतिदावे हो रहे हैं। इससे अच्छे परिणाम ही आएँगे। विश्व …

Read More »

रवीश कुमार: PM के अर्थव्यवस्था में गिरावट को स्वीकार करने के बाद क्या भक्त हमारी यह भी बात मानेंगे?

प्रधानमंत्री ने अर्थव्यवस्था में गिरावट को स्वीकार किया है। उन्होंने माना है कि जीडीपी कम हुई है लेकिन उनके कार्यकाल में एक बार कम हुई है। यूपीए के कार्यकाल में आठ बार गिर कर 5.6 पर आई थी। वित्त मंत्री भी जी एस टी में सुधार की बात कर रहे …

Read More »

गुजरात में दलितों पर बड़ी हिंसा, समाज की छवि पर एक बहुत बड़ा दाग

संविधान में छूआछूत को अपराध माना गया है. लेकिन फिर भी पिछले एक सप्ताह के दौरान गुजरात में दलितों के खिलाफ हिंसा की तीन घटनाएं हुई हैं.मंगलवार की शाम को राज्य की राजधानी गांधीनगर के पास के एक गांव में एक सत्रह-वर्षीय दलित किशोर को केवल इसलिए चाकू मार कर …

Read More »

गुजरात में दलितों की पिटाई पर भड़के रवीश, पूछा- सरकार नौकरी नहीं दे रही, तो ऐसे क्यों निकाल रहे गुस्सा?

मूँछ रखने के कारण क्या किसी को पीटा जा सकता है? गरबा देखने के लिए क्या किसी को इतना मारा जा सकता है कि वह मर जाए? क्या इसके पीछे किसी जाति के प्रति घिन है? फिर वो कौन सी चीज़ है जिसके कारण बारात निकलने या गरबा देखने पर …

Read More »

सब कुछ निजी हाथों में सौंपकर कमीशन लेने की तैयारी में जिम्मेदारी मुक्त मोदी सरकार: पुण्य प्रसून बाजपेयी

खुली अर्थव्यवस्था की जो लकीर पीवी नरसिंह राव ने जो लकीर 1991 में खींची, उसी लकीर पर वाजपेयी चले, मनमोहन सिंह चले और अब मोदी भी चल रहे हैं। और खुली इक्नामी की इस लकीर का मतलब यही था कि रोजगार हो या शिक्षा । इलाज हो या घर । …

Read More »

इस मुस्लिम साइंटिस्ट ने 2 पंख लगाकर खोजा था उड़ने का तरीक़ा!

नई दिल्ली : एक मुस्लिम खोजकर्ता अब्बास इब्न फ़िरनास जिनकी पैदाइश इज़्न-रैंड ओंडा, अल-अन्द्लूस(आज के स्पेन) में 810 में हुई थी। इब्न-फ़िरनास कई तरह का हुनर रखते थे, वो खोजकर्ता भी थे, हकीम भी, इंजिनियर भी और शा’इर भी। उन्होंने आने वाली नस्लों को बहुत कुछ दिया, उन्हीं में से …

Read More »

PM मोदी के ‘स्वच्छता अभियान’ में बेहद खूबसूरती से भ्रष्टाचार हो रहा है: प्रशांत तिवारी

2 अक्टूबर साल का इकलौता ऐसा दिन था.. जिस दिन सत्य, अहिंसा की कहानियां सुनाई जाती थीं.. बताया जाता था की कैसे बिना हिंसा के भी अपनी बातें मनवाई  जा सकती हैं… आज भी याद है की अब की तरह उस दिन छुट्टियां नहीं हुआ करती थी.. उस दिन वो …

Read More »

अडानी और कोयला खदान का झोल, सात जनम में आपको ये खेल नहीं समझ आएगा: रवीश कुमार

ऑस्ट्रेलिया का abc चैनल कल दिन भर ट्विट करता रहा कि भारत के अदानी ग्रुप के बारे में बड़ा ख़ुलासा करने जा रहा है। मैं देख नहीं सका, मगर ये लिंक मिला है। ऑस्ट्रेलिया में अदानी ग्रुप को मिल चुके कोयला खदान के लाइसेंस को लेकर विवाद हो रहा है। …

Read More »

पाकिस्तान को नसीहत देने वाले अमेरिका पर चुप्पी कब तोड़ेंगे?

जब पाकिस्तान के सैनिक स्कूल में आतंकियो ने हमला कर 100 बच्चों को मार दिया तो भारतीय लोगों ने भी बच्चों के प्रति अपनी संवेदना ज़ाहिर की, और करना भी चाहिए आख़िर हम इंसान जो हैं, लेकिन लगे हाथ हर दूसरा व्यक्ति पाकिस्तान को लानत भेजता हुआ ये नसीहत करता …

Read More »

रवीश कुमार: कमाई कम है, इसलिए बेघर लेक्चरर कार में रहकर जिस्मफरोशी करती है…

मीनाक्षी लेखी का ट्वीट : एक अधूरा प्रसंग अमरीका का Adjunct लेक्चरर यानी भारत का Adhoc लेक्चरर। बीजेपी सांसद ने गार्डियन अख़बार की Adjunct लेक्चरर की एक स्टोरी ट्वीट करते हुए कहा है कि वे इस पागल दुनिया पर दुखी हैं। अगले ट्वीट में कहती है कि भारत और बांग्लादेश …

Read More »

नोटबंदी और GST के बाद डूबते धंधे से परेशान व्यापारी जाएं अयोध्या: रवीश कुमार

मुंबई रेल ओवर ब्रिज की घटना दहलाने वाली है। सुरेश प्रभु और पीयूष गोयल दोनों मुंबई से आते हैं। दस साल से देख रहा हूं कि जब भी रेल बजट का समय आता है वहां की लोकल रेल की समस्याओं को काफी ज़ोर शोर से उभारा जाता था। इसके बाद …

Read More »

अमेरिकी मूल के उर्दू बोलने वाले टॉम अल्टर, जिन्होंने ‘मौलाना आजाद’ को पर्दे पर फ़िर से जिंदा किया

अभिनेता, लेखक और पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित टॉम आल्टर का 67 साल की उम्र में निधन हो गया है। वह बीते काफी दिनों से स्किन कैंसर की बीमारी से पीडि़त थे और जिंदगी व मौत के बीच जंग लड़ रहे थे। बताया जा रहा है कि ऑल्टर कैंसर की चौथी …

Read More »

अच्छे दिन का ख़्वाब दिखाकर मोदी सरकार ने अर्थव्यवस्था की तोड़ी कमर, जनता की जेब ख़ाली

चारों तरफ से आ रही आर्थिक संकट की ख़बरों ने अचानक भाजपा की जान को सांसत में डाल दिया है. बेहद खराब तरीके लागू किए गए नोटबंदी के फैसले के बाद कुछ वैसी ही बदइंतजामी जीएसटी को लागू करने के मामले में भी दिखाई दे रही है. इसने छोटे कारोबारियों …

Read More »
TOPPOPULARRECENT